लॉक डाउन के दौरान विद्यार्थियों को(मुख्यतः सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी, जिनके पास कौशल, तकनीक और धन का अभाव है) शिक्षक किस प्रकार पढ़ाई करवाएं और विद्यार्थी कैसे पढ़ाई करें। आइए, जानते हैं –

जैसा की हम सब जानते हैं कि, इस समय लॉकडाउन देश में सर्वत्र व्याप्त है और इसका बहुत बड़ा असर विद्यार्थियों की शिक्षा पर पड़ रहा है। खासतौर से, सरकारी स्कूल के विद्यार्थियों पर। और हमारे देश के बहुत से शिक्षा संस्थान(मुुख्यतः सरकारी स्कूल) और विद्यार्थी(मु्ख्यतः सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थी) ऐसे हैं जिनके पास ऑनलाइन पढ़ाई क्रमशः करवाने और करने के लिए पर्याप्त संसाधनों का अभाव है। और बहुत से शिक्षक व विद्यार्थी ऐसे भी हैं जिनमें अध्ययन संसाधनों का अभाव होने के साथ – साथ कौशल और तकनीकी जानकारी की कमी भी है।

तो, ऐसी स्थिति में इन लॉकडाउन प्रभावित शिक्षण संस्थानों को शिक्षा की दीक्षा अपने विद्यार्थियों को कैसे देनी चाहिए और विद्यार्थी इसे कैसे ग्रहण करें। आइए समझते हैं –

१. ई-मेल के माध्यम से –
ऐसे विद्यार्थी जिनके पास ना तो लैपटॉप है और ना ही जो इंटरनेट का बहुत अधिक खर्च उठा सकते हैं। उनके लिए ई – मेल से अच्छा माध्यम इस समय कोई भी नहीं है।

ई – मेल में भी बहुत से मेल खाते ऐसे हैं जो एक समय में अधिक से अधिक डाटा (data) साझा(शेयर) करने की क्षमता रखते हैं व पूर्णतः सुरक्षित और सुगम हैं। जैसे – जीमेल(Gmail)।
जीमेल में खाता/अकाउंट बनाना बहुत ही सरल है और बहुत से लोग इसे बहुत समय से उपयोग कर भी रहे हैं। किन्तु जीमेल की कुछ ऐसी विशेषताएं भी हैं जो शिक्षा प्रदान करने और ग्रहण करने के लिए बहुत सहायक हैं और जिसके बारे में बहुत ही कम लोगों को इसकी जानकारी हैं। शिक्षण संबंधी वह मुख्य विशेषताएं क्या हैं? आइए जानते हैं –

(क) जब आप अपना जीमेल अकाउंट/खाता खोलेंगे तब उसकी दायी ओर उपर की तरफ निम्न प्रकार का एक संकेत दिखाई देगा(निम्न चित्र देखें) –

इसे गूगल ऐप कहते हैं, जब आप इस पर क्लिक करेंगे तो बहुत सारे विकल्प आपके सामने प्रस्तुत होंगे। जहां तक शिक्षा की बात है, इनमें उपयोगी विकल्प – ड्राइव(Drive), फोटोज(Photos), कीप(Keep), डॉक्स(Docs), शीट्स(Sheets), स्लाइड्स(Slides), बुक्स(Books), अर्ट – कल्चर(Art & Culture), आदि हैं। जो इस लॉकडॉउन काल में बहुत उपयोगी सिद्ध हो सकते हैं।

(ख) छानना (फिल्टर/filter) –  फिल्टर लगाना आसान है और एक बार जब आप इससे थोड़े सुलभ, सक्रिय, और परिचित हो जाते हैं तब आप शीघ्रता से और अधिक तरीके खोज लेंगे जो फिल्टर करना आपके ईमेल इनबॉक्स को आसान बना देगा।
आप कोई भी पुराना साझा किया हुआ डेटा(आधार सामग्री) कभी भी सरलता से ढूंढ सकते हैं और उस सामग्री के गलती से मिट जाने पर भी वह सामग्री ट्राश बॉक्स(Trash) और रिसाइकिल बिन(Recycle Bin) से पुनः प्राप्त की जा सकती है। जो कि किसी मोबाईल ऐप में उतना सुगम नहीं जान पड़ता।

(ग) प्रायोरिटी इनबॉक्स (Priority Inbox) –
जीमेल की इस विशेषता का प्रयोग करके भी आप कोई भी मैसेज आसानी से ढूंढ सकते हैं।

(घ) जीमेल द्वारा संदेश देना (SMS from Gmail) – बातचीत करने व छोटे संदेशों का आदान प्रदान करने हेतु, जीमेल बातचीत(Gmail Chat) का उपयोग करें।

२. जीमेल का या किसी अन्य मेल का प्रयोग करके एक ही बार में कई विद्यार्थियों तक अध्ययन सामग्री बिना टुकड़े किए उपलब्ध कराई जा सकती है। जो किसी ऐप में उतना सुगम नहीं है।

३. गूगल ट्रांसलेट(Google Translator) का प्रयोग करके अंग्रेजी से हिंदी का अनुवाद किया जा सकता है।

४. लैपटॉप नहीं है तो मोबाइल में भी इसका प्रयोग संभव है।जबकि बहुत सी शिक्षा संबंधी मोबाइल ऐप को लैपटॉप पर अभिगम कर पाना संभव नहीं किन्तु मेल को आप मोबाइल, लैपटॉप और टैब तीनों पर ही खोल सकते हो।
यदि आप मेल के लिए मोबाइल का प्रयोग कर रहे हैं तो मोबाइल से ही फोटो खींचे, मोबाइल से ही पीडीएफ(PDF), कार्यपत्रक(Worksheet), एक्सेलपत्रक(Excel Sheets), बल्कि पूरा का पूरा एमएस – ऑफिस ही डाउनलोड करके मेल पर अध्ययन सामग्री साझा करें। इस कार्य हेतु शिक्षक व विद्यार्थी दोनों ही डबलू.पी.एस ऐप(WPS app) गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं।

५. किसी मेल खाते के इस्तेमाल में बहुत अधिक इंटरनेट खर्च नहीं आता और यह मेल खाते कुछ हद तक ऑफलाइन भी सक्रिय रहते हैं।

नोट :- स्कूल और कॉलेज के आग्रह पर जीमेल उस स्कूल और कॉलेज के विद्यार्थियों एवं शिक्षको को कुछ अलग सुविधाएं भी देती हैं | जो उनकी शिक्षा में अहम रोल निभाते हैं |

उपरोक्त जानकारी का उपयोग करके और साधारण तकनीकों का प्रयोग करके हम इस विपत्ति काल को अवसर काल में बदल सकते हैं। देश के उन विद्यार्थियों (छात्र/छात्राओं) का भविष्य सुधार व बचा सकते हैं जिनमें कौशल और तकनीकी जानकारी का अभाव है और जो मंहगी तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने में असमर्थ हैं।

कृपया इस जानकारी को अधिक से अधिक लोगों को शेयर करें। बच्चों की शिक्षा का प्रश्न है।

धन्यवाद

Leave a comment